विज्ञान के 5 सवाल जिसे आप ज़रूर जानना चाहोगे। Shoutuse

विज्ञान के 5 सवाल जिसे आप ज़रूर जानना चाहोगे। Shoutuse

विज्ञान के 5 सवाल जिसे आप ज़रूर जानना चाहोगे। Shoutuse

★विज्ञान के सवाल:- आकाश का रंग नीला क्यों दिखाई देता है?

विज्ञान के 5 सवाल जिसे आप ज़रूर जानना चाहोगे। Shoutuse

धरती के चारों ओर वायुमंडल यानी हवा है। इसमें कई तरह की गैसों के मॉलीक्यूल और पानी की बूँदें या भाप है। गैसों में सबसे ज्यादा करीब 78 फीसद नाइट्रोजन है और करीब 21 फीसद ऑक्सीजन। इसके अलावा ऑरगन गैस और पानी है।

 इसमें धूल, राख और समुद्री पानी से उठा नमक वगैरह है। हमें अपने आसमान का रंग इन्हीं चीजों की वजह से आसमानी लगता है। दरअसल हम जिसे रंग कहते हैं वह रोशनी है। रोशनी वेव्स या तरंगों में चलती है। हवा में मौजूद चीजें इन वेव्स को रोकती हैं। जो लम्बी वेव्स हैं उनमें रुकावट कम आती है।
 वे धूल के कणों से बड़ी होती हैं। यानी रोशनी की लाल, पीली और नारंगी तरंगें नजर नहीं आती। पर छोटी तरंगों को गैस या धूल के कण रोकते हैं। और यह रोशनी टकराकर चारों ओर फैलती है। रोशनी के वर्णक्रम या स्पेक्ट्रम में नीला रंग छोटी तरंगों में चलता है। यही नीला रंग जब फैलता है तो वह आसमान का रंग लगता है।

★विज्ञान के सवाल:- तारे टूटते हुए क्यो दिखाई देते है?

विज्ञान के 5 सवाल जिसे आप ज़रूर जानना चाहोगे। Shoutuse

अन्तरिक्ष में अनेकों बड़ी-बड़ी रचनाएँ उपस्थित है जो पृथ्वी से अरबों किलोमीटर की दुरी पर स्थित है जिन्हें हम तारों के रूप में देखते है। जब वे बाहरी अन्तरिक्ष से वायुमंडल में प्रवेश करते है तो हवा की रगड़ से गर्म होकर चमकने लगते है

 ये उल्कायें भी कहलाती है अधिकांश उल्कायें वायुमंडल में पूरी तरह जल जाती हैं लेकिन कुछ बड़े उल्का पिण्ड पृथ्वी तक पहुँच जाते हैं उन्हें जब गिरता हुआ देखते है तो हम कहते है कि तारा टूट रहा है।

★विज्ञान के सवाल:- दिन में तारे दिखाई क्यों नही देते हैं?

विज्ञान के 5 सवाल जिसे आप ज़रूर जानना चाहोगे। Shoutuse

पृथ्वी के चारों ओर सघन वायुमंडल है जो कि सूर्य के प्रकाश के चारों ओर बिखेर देता है जिससे दिन में आकाश चमकदार हो जाता है तथा तारे दिखाई नहीं देते है जबकि चाँद पर जहाँ वायुमंडल नहीं है वहाँ दिन में भी तारे देखे जा सकते हैं।

★विज्ञान के सवाल:- मकड़ी अपने जाल में खुद क्यों नहीं चिपकती ?

विज्ञान के 5 सवाल जिसे आप ज़रूर जानना चाहोगे। Shoutuse

मकड़ी अपने शिकार को फंसाने के लिए जाल बुनती है. छोटे-छोटे कीड़े इस जाल में आसानी से फंस जाते हैं. इन कीड़ों का जाल से निकलना काफी मुश्किल होता है. लेकिन आपने कभी गौर से देखा होगा तो पाया होगा कि मकड़ी खुद उस जाल में एक-जगह से दूसरे जगह आसानी से घूम लेती है. क्या आपको पता है कि ऐसा क्यों होता है?

मकड़ी का पूरा जाल चिपकने वाले नहीं होता है. वह इसका कुछ ही हिस्सा चिपचिपा बुनती है. वहीं, इसके अलावा वैसा हिस्सा जहां मकड़ी खुद आराम से रहती है, वह बिना चिपचिपे पदार्थ के बनाया जाता है.
 इसलिए वह आसानी से इसमें घूम लेती है. वैसे अपने ही जाल में फंसने से बचने के लिए मकड़ी एक और तरकीब निकालती है. वह रोजाना अपने पैर काफी अच्छे से साफ करती है ताकि इन पर लगी धूल और दूसरे कण निकल जाएं.
कुछ वैज्ञानिक मानते हैं कि मकड़ी का पैर तैलीय होता है इसलिए वह जाल में नहीं फंसती और इसमें घूमती रहती है. लेकिन सच यह है कि मकड़ियों के पास ऑयल ग्लैंड्स (ग्रंथियां) नहीं होते हैं. वहीं कुछ वैज्ञानिक इसकी वजह मकड़ी की टांगों पर मौजूद बालों को मानते हैं जिन पर जाले की चिपचिपाहट का कोई असर नहीं होता है।

★विज्ञान के सवाल:- बर्फ पानी के ऊपर क्यों तैरती है?

विज्ञान के 5 सवाल जिसे आप ज़रूर जानना चाहोगे। Shoutuse

जब कोई भी तरल पदार्थ ठोस पदार्थ में बदलता है तो उसका आयतन घट जाता है और वह  भारी हो जाता है लेकिन पानी के साथ ऐसा नहीं होता पानी जब ठोस अवस्था के लिए जमकर बर्फ बनता है तो उसका आयतन घटने के स्थान पर बढ़ जाता है जिसके कारण वह पानी की तुलना में हल्की हो जाती है इसीलिए बर्फ पानी में तैरती रहती है।


अगर आपको यह post अच्छा लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ share जरूर करें और हमें comment करके बताएं कि यह post आपको कैसा लगा। 

Post a Comment

0 Comments